आदमी…


शायद के मर गया मेरे अंदर का आदमी
आँखें दिखा रहा है बराबर का आदमी

सूरज सितारे कोह ओ समंदर फ़लक ज़मीं
सब एक कर चुका है ये गज़ भर का आदमी

आवाज़ आई पीछे पलट कर तो देखिए
पीछे पलट के देखा तो पत्थर का आदमी…..!!

( जनख़े सेक्यूलर हिंदू के ‘सम्मान’ में ..)

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s