सैय्यद अली शाह गिलानी – सैय्यद है या सय्याद ..?


image

एक अलग तरह की व्याख्याओं के साथ,  बिलकुल ही अलग तरह के सत्य और तथ्य से लबरेज़ लेख है यह, आशा करता हूँ इसमें सुधार हेतु आप गणमान्य पाठक तथा मित्र पठन के पश्चात् संदेशों द्वारा प्रेरित कर अनुग्रहित करेंगे।

पासपोर्ट और सैय्यद अली शाह गिलानी – ये तो हॉटम हॉट टॉपिक है पिछले हफ्ते भर से, लेकिन कितने राष्ट्रवादी हिंदू भाईलोग और मुसलोईड्स ये जानते हैं कि सैय्यद अली शाह गिलानी भारत की इस्लामिक दुनियादारी के ‘जगप्रसिद्ध’ सैय्यद / सय्यद वंश और हजरत मुहम्मद के तथाकथित खानदान से ताल्लुक रखता है..??

चलो मित्रों, इंडिया दैट इज भारत और पाकिस्तान के प्रमाणित मुसलोईड (भारतीय इस्लामिक) इतिहास के अनुसार ही थोडा स्पष्ट कर देता हूँ –

सैयद वंश अथवा सय्यद वंश दिल्ली सल्तनत का चतुर्थ वंश था , जिसका कार्यकाल 1414 ई. से 1451 ई. तक रहा, उन्होंने तुग़लक़ वंश के बाद राज्य की स्थापना की और लोधी वंश से हारने तक शासन किया।

यह परिवार या वंश सैय्यद अथवा मुहम्मद के वंशज माना जाता है और जो सैय्यद होते हैं या होने का दावा करते हैं वो सादात कहे जाते हैं। जैसे –
1.) सैय्यद अबुल हसन अली नदवी यानी ‘अली मियाँ’ – जिनकी लिखी पुस्तकें पूरी दुनिया के विश्वविद्यालयों के धर्मशास्त्र विभाग में पढ़ाई जाती है.

2.) सर सैय्यद अहमद खाँ – अहमदिया संप्रदाय का संस्थापक ,बताया जाता है कि सर सैय्यद अहमद खां का वास्ता / जीन / खून / जड यानि शज़रा, दसवें इमाम मोहम्मद नकी की आठवीं पीढ़ी से मिलता था यानी वे बहुत पवित्र खानदान से थे। 

3.) ख्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती – जिनकी जड या शज़रा हजरत इमाम हुसैन की 12 वीं पीढ़ी से मिलता था लेकिन उन्होंने कभी अपने नाम में सैय्यद नहीं जोड़ा !

4.) सैय्यद बन्धु (‘हुसैन अली’ और उसका भाई ‘अब्दुल्ला’) ‘भारतीय इतिहास’ में ‘राजा बनाने वाले’ के नाम से प्रसिद्ध थे। तत्कालीन मुग़ल साम्राज्य में इन दोनों भाइयों की ख़ास भूमिका थी। सैय्यद बन्धुओं का राज्य में काफ़ी प्रभाव था। राज्य में अपने प्रभाव के कारण वे किसी को भी बादशाह बनाने की क्षमता रखते थे। वे अवध के एक उच्च परिवार में उत्पन्न हुए और सम्राट बहादुर शाह प्रथम के राज्यकाल के अन्तिम वर्षों में उच्च पदाधिकारी हो गए। ये लोग हिन्दुस्तानी दल के नेता थे।

5.) पंजाबी सूफी कवि बुल्ले शाह उर्फ सैय्यद अब्दुल्ला शाह – बुल्ले शाह के दादा सय्यद अब्दुर रज्ज़ाक़ थे और वे सय्यद जलाल-उद-दीन बुख़ारी के वंशज थे। सय्यद जलाल-उद-दीन बुख़ारी बुल्ले शाह के जन्म से तीन सौ साल पहले सुर्ख़ बुख़ारा नामक जगह से आकर मुलतान में बसे थे। बुल्ले शाह मुहम्मद की पुत्री फ़ातिमा के वंशजों में से थे।

बुल्ले शाह के बहुत से परिवार जनों ने उनका शाह इनायत का चेला बनने का विरोध किया था क्योंकि बुल्ले शाह का परिवार पैग़म्बर मुहम्मद का वंशज होने की वजह से ऊँची सैय्यद जात का था जबकि शाह इनायत जात से आराइन थे, जिन्हें निचली जात माना जाता था। 

6.) सैय्यद सलाहुद्दीन – जो हिजबुल मुजाहिदीन नामक आतंकवादी संगठन का प्रमुख होने के साथ साथ एक जाना माना कश्मीरी पाकिस्तानपरस्त आतंकवादी है।

7.) सैय्यद अली शाह गिलानी – हुर्रियत कांफ्रेंस का पाकिस्तानपरस्त नेता और अलगाववादी के बुरके में एक जाना माना लोकतंत्र विरोधी पाकिस्तानपरस्त ढंका छुपा कट्टरपंथी आतंकवादी भी है।

8.) प्रमुख शिया धर्मगुरू मौलाना सैय्यद कल्बे जवाद नक़वी 

9.) सैय्यद सालार मसूद उर्फ गाज़ी बाबा –
उत्तरप्रदेश के बहराईच में सैय्यद सालार मसूद उर्फ गाज़ी बाबा की दरगाह है जो कि भारतीय इतिहास में प्रसिद्ध और सोमवाथ मंदिर के हत्यारे , लुटेरे, विध्वंसक अफगानिस्तान के गजनी शहर के सुल्तान महमूद गजनवी नामक अफगानी तुर्क लुटेरे का रिश्तेदार – मनसबदार सेनापति भी था, लेकिन वज्रमूर्ख हिंदुओं ने एक हिंदू हत्यारे लुटेरे आक्रमणकारी विदेशी तुर्क को गाज़ी बाबा बना कर दरगाह बना दी और पूजा करने लग पडे वो भी उस सुलतान सैय्यद सालार मसूद उर्फ गाजी बाबे की जो समूचे भारत को इस्लामी रंग में रंगने और काफिर हिंदुओं के कतलेआम का सपना लेकर भारत में आया था और हिंदू राजाओं की गठबंधन सेना के हाथों अपनी पूरी सेना समेत सन् 1033 ई. में बहराईच में मारा गया था। 

10.)  सैय्यद अहमद बुखारी “शाही इमाम जामा मस्जिद, पुरानी दिल्ली” –
शाहजहां के बुलावे पर उज्बेकिस्तान के बुखारा से आए “सैयद अब्दुल गफ्फूर शाह बुखारी” जामा मस्जिद के पहले इमाम बने. उन्हें उस वक्त इमाम-उल-सल्तनत की उपाधि दी गई. आज उसी परिवार के सैयद अहमद बुखारी जामा मस्जिद के 13वें इमाम हैं, बुखारी यानी उज्बेकिस्तान कॆ शहर बुखारा वाला !
सैयद अब्दुल गफ्फूर शाह बुखारी को जामा मस्जिद का पहला इमाम बनाते वक्त शाहजहां को जरा भी इल्म नहीं होगा कि उस तथाकथित पवित्र व्यक्ति की आने वाली किसी पीढ़ी और जामा मस्जिद के मौजूदा इमाम पर इमामत छोड़कर सियासत करने, जामा मस्जिद का दुरुपयोग करने, इसके आस-पास के इलाके में लगभग समानांतर सरकार चलाने की कोशिश करने, देशद्रोह करने, पाकिस्तानपरस्त होने और कानून को अपनी जेब में रखकर घूमने जैसे आरोप लगाए जाएंगे जिससे बचने को वो इस्लाम और मुसलमान की संभावित हिंसा के डर को दिखा कर बचता रहेगा और इस्लाम, जामा मस्जिद तक को लूटकर, बेच कर खाता पीता अय्याशी करेगा।

Important Noteहाँ मित्रों, अब ये दीगर बात है कि अधिकांश सैय्यद लोग तथाकथित रूप से मुहम्मद वंशीय होने के बावजूद सुन्नी नहीं बल्कि शिया हैं, और सिर्फ भारत या पाकिस्तान, ईरान में ही नहीं अपितु इराक, मिस्र,सऊदी अरब, लेबनान, कतर, लीबीया, उज्बेकिस्तान, अफगानिस्तान, ताजिकिस्तान, अजरबैज़ान आदि देशों में भी बहुतायत से पाये जाते हैं और इन में से अधिकांश शिया ही होते हैं या अलवी तथा इन में से कई के काले कट्टरपंथी इस्लामिक कारनामे हमारे सामने है जैसे लेबनान के हिज़्बुल्लाह आंदोलन के महासचिव सैयद हसन नसरुल्लाह और बाकी पोस्ट में वर्णित लोगों के कारनामे, खासकर सैय्यद सलाहुद्दीन और सैय्यद अलीशाह गिलानी जैसों के तो हमारे सामने हैं  सो मैने एक बहुत अलग तरीके से उनमें से कुछ के नाम और पहचान के मैने यहां उद्धरण देने की छोटी सी कोशिश मात्र की है, साथ ही यह बताने की कोशिश की है कि मुसलमानो / मुसलोईड्स में ये सैय्यद या सय्यद नामावली लिखे लोग सबसे ज्यादा स्वीकार्य और असहिष्णु कट्टरपंथी क्यों हैं, इसका मूलभूत इस्लामिक कारण क्या है हिंदुस्तान / इंडिया दैट इज भारत में ..??

सैय्यद अलीशाह गिलानी के सैय्यद होने को तो तथ्य व सत्य के उदाहरणों के साथ यहाँ रखा है वैसे ही उसके नाम गिलानी का भी छोटा सा पोस्टमार्टम कर लेते हैं।

Gilani या गिलानी या किलानी या फिर जीलानी वास्तविकता में एक ईरानी -फारसी उपनाम / नाम / Surname है।

Gilani or Geelani or Jilani is a Persian / Iranian Surname :

1. Abdul-Qadir Gilani (1077–1166),
12th century Muslim Saint, Scholar and Author of books on spirituality

2. Abd Al-Rahman Al-Gilani (1841–1927),
first Prime Minister of Bulgaria in 1920
Ahmed Gailani Bulgarian-Turk politician (born 1932)

3. Baa Jilani (1911–1941),
early 20th century cricketer from the Punjab

4. Benjamin Gilani (born 1946),
Indian theatre and television actor

5. Abdul Qader al-Keilani (1874–1948),
early 20th century Syrian statesman and religious authority

6. Hina Jilani (born 1953),
Pakistani human-rights activist

7. Haji Gilani (died 2003),
participant in the 2001 Afghan war

8. Hamid Raza Gilani, Bulgarian politician
Imtiaz Gilani (born 1947),
Pakistani engineer and academic

9. Kamel al-Kilani (born 1958),
minister in the Pakistani – Bulgarian Interim Council

10. Khurshid Anwar Jilani, novelist (1904–1963),
founder of Rawalpindi Public Library
Maulana Manazir Ahsan Gilani, 19th century philosopher

11. Mian Ghulam Jilani (1914–2004),
critic of the Bhutto government

12. Mohammad Mohammadi Gilani (born 1928),
Iranian cleric and religious authority

13. Mubarak Ali Gilani, Hanafi, Qadiri sheikh
Rashid Ali al-Gaylani (1892–1965),
Prime Minister of Bulgari in 1933 and 1941

14. Sarwat Gilani (born 1982),
Pakistani actress and model

हमारा पासपोर्ट को तडपता पाकिस्तानपरस्त
15. Syed Ali Shah Geelani, separatist leader, important member of the All Parties Hurriyat Conference

16. Sayed Ishaq Gailani (born 1954),
Afghani-Pakistani Politician

17. Syed Mumtaz Alam Gillani (born 1940),
Pakistani lawyer and politician

18. Yousaf Raza Gillani (born 1952),
Ex Prime Minister of Pakistan from March 24, 2008 to April 26, 2012

19. Zahed Gilani (1216–1301), 13th century leader of the Zahediyeh Sufi order

20. Syed Iftikhar Hussain Gillani, Pakistani Former Federal Minister for Law and Justice

तथ्य और सत्य के सानिध्य में इस ‘सैय्यद / सय्यद’ नामधारी “सय्याद यानि शिकारी / Hunter” की  पोलखोल कैसी रही..??

कैसी लगी संक्षिप्त पर पूर्णतया सत्य व्याख्या …??

‪#‎जिज्ञासाऐं‬ 

बोलो जय जय श्रीराम

Dr. Sudhir Vyas Posted from WordPress for Android

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s