Opus Dei – काँग्रेस और भारत


image

Opus Dei लैटिन में ओपस डी का अर्थ होता है भगवान का काम…!!

ओपस डी की स्थापना स्पेन में की गई थी और बीबीसी संवाददाता मैक्स सीट्ज़ के अनुसार इस संगठन कैथोलिक धर्म का सबसे प्रभावशाली संगठन माना जा सकता है.

लैटिन में ओपस डी का अर्थ होता है भगवान का काम, इस संगठन पर ईसाई धर्म को मानने वालों को भटकाने का आरोप लगता रहा है जिसे संगठन खारिज करता है , स्पेन की सड़कों पर लोगों से बातचीत करने पर वो कहते हैं कि ओपस डी एक गुप्त संस्था है जो राजनीति और व्यवसाय को प्रभावित करता है,, ओपस डी का दावा है कि पूरी दुनिया में उसके 85000 सदस्य हैं जिसमें से एक तिहाई स्पेन में हैं.

सदस्यों को कहा है जाता है कि वो और लोगों को अपने काम के ज़रिए ईसाई बनने के लिए प्रेरित करें , दूसरे शब्दों में लोगों से अपने कार्य में बहुत सफल होने के लिए कहता है दूसरों की मदद के लिए प्रेरित करता है ताकि वो और लोगों को सदस्य बना सके.

तीन साल पहले 2002 में ओपस डी के संस्थापक जोसे मारिया एस्क्रिवा को उनकी मौत के मात्र 27 साल बाद जब पोप जॉन पॉल द्वितीय ने सम्मानित किया था तो उस समारोह में दुनिया भर से हज़ारों ओपस डी सदस्य वैटिकन पहुंचे थे.

पोप ने ओपस डी को विशेष दर्ज़ा दिया जिससे संगठन कई प्रकार की सुविधाएं मिल गई. यह भी कहा जाता है कि पोप जॉन पॉल द्वितीय के समय में ओपस डी अत्यधिक प्रभावी हो गया.

हालांकि ओपस डी संगठन के प्रवक्ता जैक वलेरो इसका खंडन करते हैं वो कहते हैं ” वैटिकन में ऐसे लोगों की संख्या बहुत कम है जो ओपस डी के सदस्य हैं. पांच या छह लोग हैं मात्र जिनमें से एक पोप के प्रवक्ता जोआक्विन नवारो वाल्स भी हैं.

वैटिकन पर ओपस डी के प्रभाव को बढ़ा चढ़ाकर दिखाया जाता है. “आलोचकों का कहना है कि दुनिया में ऐसे पादरियों की संख्या बहुत अधिक है जो ओपस डी से जुड़े हुए हैं. इससे चर्च के अलावा चर्च जैसी एक और संस्था का भ्रम होता है, दुनिया भर की कई सरकारों के नेता और अधिकारीगण भी ओपस डी से जुड़े हुए हैं. इनमें से एक नाम ब्रिटेन की शिक्षा मंत्री रुथ केली का भी है..!!

लैटिन अमरीका में कोलंबिया के राष्ट्रपति अल्वारो उरीबे भी ओपस डी के सदस्य कहे जाते हैं लेकिन उन्होंने इन ख़बरों की पुष्टि नहीं की है, प्रवक्ता जैक वलेरो का कहना है कि धर्म एक ऐसी चीज़ है जो निजी होती है और ओपस डी की सदस्यता भी निजी मसला है, यह पता करना मुश्किल काम है कि ओपस डी के पास पैसा कितना है लेकिन इतना तय है कि दुनिया भर की कई संस्थाएं ओपस डी चलाती है और उसे अपने सदस्यों से भारी रकम मिलती है,ऐसी ही एक पूर्व न्यूमरेरी कारमेन चारो कहती हैं कि इन केंद्रों में जीवन एक सपने जैसा होता है,वो कहती हैं ” इन केंद्रों में आपकी दुनिया कोई और ही चलाता है. उन पर धार्मिक गुरुओं का नियंत्रण रहता है. आपके पैसे पर और आपकी पूरी ज़िदगी उनके हाथ में होती है , “हालांकि ओपस डी कहता है कि ऐसे केंद्रों में लोग अपनी मर्ज़ी से आते हैं और संगठन छोड़ने के लिए वो पूरी तरह स्वतंत्र होते हैं,प्रवक्ता जोसे मारिया कहते हैं कि यह संगठन भी लोग ही चलाते हैं और उनसे ग़लतियां भी हो सकती हैं..!

विश्व हिंदू परिषद के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक सिंघल ने भी कांग्रेस व यूपीऐ अध्यक्ष सोनिया गांधी पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया था कि वे ईसाई धर्म के लिए काम करनेवाली अंतर्राष्ट्रीय संस्था ‘ओपस डी’ के नेटवर्क का हिस्सा हैं।

तो क्या हैं ओपस डी के सदस्य ,, तथाकथित आम आदमी, राजनेता , धार्मिक संत , धर्म प्रचारक या जनता व देश के ‘अपराधी’ ..??

एक महत्वपूर्ण समाचार सहित ओपस डी की भारत में मौजूदगी का लिंक नीचे दे रहा हूं, गौर करें

Opus Dei’s Influence on India’s Current Political Scenario – 
Opus Dei’s Influence on India’s Current Political Scenario-Indian Conspiracy Theories
A little while ago, I did an article on secret societies of the world and Opus Dei was one among them. Long story short, Opus Dei is an organization of the Catholic Church with its headquarters based in Rome, Italy. Opus Dei has long been associated with allegations of secretiveness and portrayed in popular culture as a sinister secret organization. But what has that got to do with Indian political system? According to a blog “purportedly” written by an ex-intelligence analyst of an Indian Intelligence Agency, he was part of a 5 member analyst team that investigated assassination of Rajiv Gandhi. He discusses in detail how four scenarios perfectly lined up in the timeline of Sonia Gandhi’s life that guided her to become the most powerful person in India. To begin with, he talks about Sonia Gandhi’s mysterious uncle who worked for Opus Dei and that this uncle funded Sonia Gandhi’s education in Cambridge in the 1960’s. Furthermore, Rajiv-Sonia hookup at Cambridge Uni was not entirely a chance event. The characters that brought them together later were absorbed by the Vatican’s intelligence wing. Moving forward, he discusses in detail how the death of Sanjay Gandhi, Indira Gandhi and Rajiv Gandhi was in a major way linked to Opus Dei. You can read his very detailed post here. It is rather peculiar to note that the author of the blog promised to follow up with more info on Rajiv Gandhi’s assassination, but the blog has been dead for a better part of the year now.

Opus Dei’s India connection revealed

http://m.ndtv.com/video/player/news/opus-dei-s-india-connection-revealed/16469

Dr. Sudhir Vyas Posted from WordPress for Android

Advertisements

2 Comments Add yours

  1. rahulwsb says:

    ये सब एजेन्ट है साले
    तभी 65 सालो मे इन्होंने देश मे कोई काम नही किया।

    Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s